चिंता – Moral Story in Hindi – प्रेरक लघु कहानियां

best-kids-moral-story-hindi

 

चिंता – Moral Story in Hindi

Hello friends first of all how are you? , Today I am sharing with you all types of चिंता Moral Story in Hindi with my valuable Readers. We know that currently social media like whatsapp , Facebook etc. used by millions of peoples from all around the world. We know that most of people in the world share Moral Story in Hindi with friends and family members. So its very difficult for them to create a new motivational quotes or inspirational quotes. So today I am sharing best Moral Story in Hindi with all peoples so that they will never face any problems In sharing quotes on social media daily.

You can check all types of Moral Story in Hindi below. like motivational , inspirational , life changing quotes you can  select any quotes you can select any quotes according to your mood . I am 100% sure you will like this Moral Story in Hindi and they will help you to change your mood. And last one listen if you like this post then don’t forget to comment and share on social media.

एक बदलाव – Best Moral Story

अतीत का बोझ – Moral Story 



चिंता का कारण

एक दिन जेबी दादा अपने विद्यार्थी के साथ बैठे हुए थे. सुबह का वक़्त था , उसमे से एक बच्चे ने जेबी दादा से पूछ लिया की गुरुजी लोगो को चिंता क्यू पकड़ लेती है और इंसान चिंतित और उदास किस वजह से होता है,
फिर जेबी दादा ने कहा ये सवाल तुम्हे दूसरे लोगो को देखकर हुआ है लेकिन वास्तव मे जब तुम ज़िम्मेदार बनॉगे तब तुम्हे समज मे आएगा मे तुम्हे एक कहानी सुनता हु,


बहुत समय पहेले की बात है एक गुरु अपने शिष्य के साथ जंगल मे जा रहे थे , वो दोनो गुरु शिष्य दूसरे गाँव भिक्षा माँगने के लिए जाया करते थे अक्सर , सुबह सूरज की किरण निकलते ही निकल जाते थे और शाम होते होते लौट आते थे,


एसा चलता रहता था , रास्ते मे दोनो एक दूसरो से बाते करते करते रास्ता काट लेते थे,
एसे मे एक दिन गाँव जाने मे थोड़ी देर हो गयी और शाम हो गयी , दोनो जंगल से होकर जा रहे थे एसे मे गुरुजी अपने शिष्य से कहते है गाँव अभी कितना दूर है हमे जल्द ही गाँव पहोच जाना है, हम इस रात को जंगल मे नही रह सकते,(एक बदलाव)


गुरु जी बहुत चिंतित लग रहे थे तो शिष्य ने पूछा क्या बात है गुरु आज आप को गाँव पहुचने की इतनी जल्दी क्यू है, और इस रात जंगल मे रुकने मे परेशानी क्या है ये बात सुनकर गुरुजी ने कुछ भी नही कहा,
और शिष्य ये देखकर हेरान हुआ और अपने गुरु की और देख रहा था तो गुरु थोड़ी थोड़ी देर मे अपने जोले को हाथ लगाकर देख रहे थे , तो शिष्य को थोड़ी संका हुई,


उसने गुरुजी से कहा गुरु जी अब हमारा गाँव नज़दीक ही है हम इस कुवे के पास पानी पीते है और थोड़ा आराम कर लेते है, तो गुरु जी ने कहा ठीक है,




जब गुरुजी अपना मूह धो रहे थे तो शिष्य ने गुरुजी का ज़ोला देखा तो उसमे दो सोने की इंट थी तो शिष्य समज गया की इस वजह से गुरुजी चिंतित है और जल्द गाँव पह्ोचना चाहते है


तो शिष्य ने वो दोनो सोने की इंट फेंक दी और समान वजन के पत्थर ज़ोले मे रख दिए, फिर थोड़ी देर मे दोनो चल पड़े गुरु ने हाथ लगाकर ज़ोला चेक किया और वो निश्चित हो गये,
Read::3 Buddha story in hindi


फिर शिष्य ने कहा गुरुजी चिंता करने की ज़रूरत नही है मैने आपकी चिंता को कुए के पास फेक दी है , एसा सुनते ही गुरु ने आश्चर्य से ज़ोले मे हाथ डालकर देखा तो उसमे दो पत्थर निकले फिर गुरुजी को समज मे आया की सही मे मेरी चिंता का कारण वो सोना ही था फिर उसने शिष्य को कहा तूने बिल्कुल सही किया मेरी लालच ही मेरी चिंता का कारण था,




 Moral of Story:: 
फिर जेबी दादा ने अपने विद्यार्थी से कहा जब हम कुछ पाना चाहते है और उसके लिए मेहनत करते है पर हमे संतोषकारक परिणाम नही मिलता तो हमे उदासी , चिंता पकड़ लेती है , इसीलिए हमे हमेशा कर्म करते रहना चाहिए फल की चिंता नही करनी चाहिए जैसा की गीता मे भगवान कृष्ण ने कहा है, इस तरह जीने से आप अपने कार्यो को बेहतर बनाते जाते हो और देखते देखते आपको वो सब भी मिल जाता है जो अपने चाहा होता है,
एसा नया ज़िंदगी का पाठ सीखकर बच्चो को खेलने के लिए विदा किए

तो फिर दोस्त कैसी लगी आपको ये प्रेरणादायक कहानी प्रेरक लघु कहानि और एसी मोटिवेशनल प्रेरणादायक कहानी (चिंता Moral Story in Hindi) के पाने के लिए इस वेबसाइट को सबस्क्राइब करे , ताकि आपको जब भी नयी कहानी आए आपको ई-मैल द्वारा जानकारी मिल सके.इस चिंता Moral Story in Hindi को पढ़ने के लिए आपका बहोत बहोत शुक्रिया.



Related Story ::>

एक बदलाव – Best Moral Story

अतीत का बोझ – Moral Story 

जिसकी जैसी भावना – Best Story

भगवान गौतम बुद्ध – Essay

5 Best Story of Buddha 

 

One Reply to “चिंता – Moral Story in Hindi – प्रेरक लघु कहानियां”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *